LATEST ARTICLES

Offers & Deals

Don't miss the opportunity the save your hard-earned money. We are providing the best exclusive offers and deals for you only.  Click on the store's...

प्रेमचंद की लोकप्रिय कहानियां

1- लाग-डाट2- रामलीला3- कजाक4- गरीब कΪ हाय5- परीक्षा6- क्रिकेट मैच7- पंच-परमेश्वर 8- धोखा9- भाड़ेका टट्टू10- जुगनूक की चमक11- सुजान भगत12- ईदगाह13- बेटों वाली विधवा Read Online

गोदान – पुस्तक-समीक्षा

लेखक  - मुंशी प्रेमचंद  मुंशी प्रेमचंद का मूल नाम धनपतराय था। उनका जनम ३१ जुलाई, १८८0  में बनारस के लमही गाँव में हुआ। उनकी साहित्य-रचना में कुल ३२० कहानियाँ और...

गोदान(Godan) – भाग 6

जेठ की उदास और गर्म सन्ध्या सेमरी की सड़कों और गलियों में पानी के छिड़काव से शीतल और प्रसन्न हो रही थी। मंडप के...

गोदान(Godan) – भाग 5

उधर गोबर खाना खाकर अहिराने में पहुँचा। आज झुनिया से उसकी बहुत-सी बातें हुई थीं। जब वह गाय लेकर चला था, तो झुनिया आधे...

गोदान(Godan) – भाग 4

होरी को रात भर नींद नहीं आयी। नीम के पेड़-तले अपनी बाँस की खाट पर पड़ा बार-बार तारों की ओर देखता था। गाय के...

गोदान(Godan) – भाग 3

होरी अपने गाँव के समीप पहुँचा, तो देखा, अभी तक गोबर खेत में ऊख गोड़ रहा है और दोनों लड़कियाँ भी उसके साथ काम...

गोदान(Godan) – भाग 2

सेमरी और बेलारी दोनों अवध-प्रान्त के गाँव हैं। ज़िले का नाम बताने की कोई ज़रूरत नहीं। होरी बेलारी में रहता है, राय साहब अमरपाल...

गोदान(Godan) – भाग 1

होरीराम ने दोनों बैलों को सानी-पानी देकर अपनी स्त्री धनिया से कहा -- गोबर को ऊख गोड़ने भेज देना। मैं न जाने कब लौटूँ।...